Search & get (home delivered) HOT products @ Heavy discounts

Tuesday, June 27, 2017

Media Can Do Wonders in Students Life book by S.S.Dogra


Our Managing Editor & Senior Journalist S.S.Dogra presenting his book "Media Can Do Wonders in Students Life" to Dr.Girish Joshi-Director-CCRT


Our Managing Editor & Senior Journalist S.S.Dogra presenting his book "Media Can Do Wonders in Students Life" to  Mr.Vijay Goel-Union Minister for Youth Affairs & Sports, Gov.t. Of India, Dr. Ujwal N. Nirgudkar-Chairman-SMPTE-Mumbai, MH

Click here to purchase this book @Amazon

Click here to purchase @Flipkart


Click here to purchase @Paytm


Click here to purchase @pblishing.com

बेटियों के टेलेंट को शिखर पर ले जाने को बना है शिखर द म्यूजिक एंड डास शो

पिछले दिनो, शिखर आर्ट्स के बहुचर्चित शो, शिखर - द म्यूजिक एंड डांस टीवी शो के दिल्ली ऑडिशंस संपन्न हुए. गौरतलब है कि नए टैलेंटेड सिंगर्स और डांसर्स की तलाश में भारत के 10 शहरों में ऑडिशंस की प्रक्रिया चल रही है. दिल्ली ऑडिशंस में बेहतरीन रिस्पांस दिखाई दिया, हर उम्र के कलाकारों व् उभरती हुयी प्रतिभाओं ने बढ़ चढ़ कर हिस्सा लिया। 

 नयी प्रतिभाओं को परखने के लिए इस बार मशहूर बॉलीवुड अभिनेत्री संध्या शर्मा,. प्लेबैक सिंगर श्री हर हर कुमार और बॉलीवूड एक्टरेस और प्रसिद्ध डान्सर निशा खान भी मौजूद थी. सभी जूरी मेंबर्स बेहद प्रसन्न थे, खास तौर पार उन्हें बच्चो कि परफॉरमेन्स बहुत पसंद आई, उन्होने कहा कि दिल्ली वाक़ई शानदार प्रतिभाओं से भरा हुआ है और उन्हें यहाँ आकर बहुत ख़ुशी हुयी है.शिखर आर्ट्स प्रबंधन के मुताबिक बहुत कम समय में ये शो सफलता की नित नयी पायदान चढ़ रहा है. उन्होंने कहा की शिखर आर्ट्स इस प्रोग्राम के द्वारा नए टैलेंट्स को आगे आने का बेहतरीन मौका मिला है और इस प्रोग्राम से बेटी बचाओ बेटी पढ़ाओ की मुहीम को भी हम लोग आगे ले जाने के लिए प्रयासरत हैं. गौरतलब है की दिल्ली ऑडिशंस अल लेप्स 1728 फैशन हाउस, के वी चिल्लीस रेस्टोरेंट, बी के न्यूट्रिशंस और कोको बेरी के सहयोग से आयोजित किये गए। दि आर्ट ऑफ गिविंग फॉउंडेशन ट्रस्ट के अध्यक्ष दयानंद वत्स ने सभी प्रतिभागियों को अपनी शुभकामनाऐं देते हुज उनके उज्ज्वल भविष्य की कामना की।

Mission XI Million Festival receives record response in Aizawl

Demonstrating the love, the north-east region of the country holds for the beautiful game of football, more than 7,500 children from close to a hundred schools participated in the Mission XI Million festival at Aizawl, Mizoram.

Hon’ble Minister of State for Sports and Youth Affairs, Shri Vijay Goel was present at the festival and commented, “It is an honour for me to come and attend another Mission XI Million Festival. Carrying forward the PM's vision to make football the sport of choice in our country, the legacy programme run by the Ministry of Youth Affairs and Sports has already reached 8000 schools and over 5 million children. It was apt that we finally reached the beautiful city of Aizawl, one which has established itself as a sporting hub and is home to some of the best footballing talent in the country. The passion that people from the state of Mizoram have for the beautiful game is enviable and I can assure that we will keep working on bettering the facilities here in the near future”.

Children at the festival were seen engaging in a variety of football activities, from playing small-sided games to practicing techniques such as dribbling and close control. They got a chance to demonstrate their abilities in front of Indian Football Team players Jeje Lalpekhlua, Shylo Malsawmtluanga and Robert Lalthlamuana.

Other dignitaries present at the event included H Rohluna, Education Minister, Government of Mizoram; Zodin Tluanga, Sports Minister, Government of Mizoram and Hmingdailova Khiangte, Parliamentary Secretary, Government of Mizoram

Expressing his delight at the reception of the festival, Tournament Director of the Local Organising Committee for FIFA U-17 World Cup, Javier Ceppi said, "We are very happy with the response in Aizawl, with almost 7,500 kids coming to the MXIM Festival. It is an area known because of its passion for football and we are sure that there will be lots of talent identified here”.

A legacy project of the FIFA U-17 World Cup India 2017, the MXIM Festival in Mizoram is another milestone in the journey of the project. Mission XI Million will get 11 million children in touch with football before the FIFA U-17 World Cup begins in October later this year.

Happy Birthday- P T Usha


Monday, June 26, 2017

Yet another feather in the cap of Dwarka Parichay


(Dwarka Parichay News Desk)

26th June, 2017, New Delhi: It is matter of great pride that our Managing Editor & Senior Journalist S.S.Dogra successfully completed Short Course in Film Appreciation that too from Film & Television Institute of India. Mr. Ajay Mittal-Principal Secretary-Ministry of Information of Broadcasting. Mr.Bhupendra Kainthola-Director-Film & Television Institute of India, Pune & Mr.Pankaj Saxena also graced the convocation ceremony. As you know his book titled “Media Can Do Wonders in Students’ Life” is extensively in demand & it’s easily on all the major e-commerce sites like, Amazon, Flipkart, Snapdeal, PayTM & Pblishing.com etc.. It’s Yet another feather in the cap of Dwarka Parichay (Photo: Karan Kapoor).

Click here to purchase @Amazon

Click here to purchase @Flipkart


Click here to purchase @Paytm


Click here to purchase @pblishing.com

Sahaj Sambhav organised a peace march on occasion of International Day Against Drug Abuse


Sahaj Sambhav organised a peace march on occasion of International Day Against Drug Abuse in order to spread the message to the common people and specially youth. As drug addiction is increasing day by day and causes the harm to the society. Addiction is the root cause of the evils in the society. It diminishes the goodness and culture rapidly. These days our young generation is suffering from this disease.

Sahaj Sambhav team organised peace march from Reliance Fresh, Kakrola Mod to our centre at C-104, Patel Garden, New Delhi on 26 June 2017 in order to convey the message SAY NO TO DRUGS.

Sahaj Sambhav team members Mrs. Rekha Jhingan-General Secretary, Mrs. Preetima Khandelwal, Mrs.Shanu Wadhwa, Mrs. Neelam Prashar, Mrs. Ankita Trikha, Mr I.M. Khanna, Mr. Chopra, Mrs. Madhulika Goyal, Mrs. Sarita Bhatia along with their team had put their effort to make the campaign successful.

Guest of Honour  Ex- Councillor Mrs. Shashi Tomar, Mr. Raj Dutt newly elected councillor and Mr. Harinder Puri also graced the ocassion. They give their support to the institution and appreciate the efforts made by Sahaj Sambhav.

Release of Survey report on faulty signage & Traffic signals & road markings in Delhi

Institute of Road Traffic Education (IRTE) Cordially Invites you to
A PRESS MEET In Connection with Release of Survey report on Crisis of Traffic Management in Delhi

Presenting a White Paper on the Faulty Signs, Signals & Road Markings (Increasing Congestion, Road Traffic Violations & Road Deaths need to be curtailed )

Road Environment must support the Motor Vehicles
Amendment Bill awaiting clearance from RajyaSabha
On Wednesday, June 28, 2017 At India Habitat Centre, Lodhi Road At 11.00 A.M.

Others who will be present on the occasion will Include

Prof. Dr. Sewa Ram, Professor of Transport Planning
School of Planning and Archtiecture (SPA)
Mr K K Kapila, Chairman, International Road Federation (IRF)

ईद मुबारक -- रईस सिद्दीक़ी


पेश है " ईद "  पर कुछ शायरों की नज़्मों और ग़ज़लों से चुनीदा  शेर। 











आप इधर आये,उधर दीन और ईमान गए
ईद का चाँद नज़र आया तो रमज़ान गए
दीन: धर्म , ईमान:आस्था
--शुजा ख़ावर
चाक-ए-दामन को जो देखा तो मिला ईद का चाँद
अपनी तक़दीर कहाँ भूल गया ईद का चाँद
जाने क्यों आपके रुख़सार महक उठते हैं
जब कभी कान में चुपके से कहा ईद का चाँद
चाक-ए-दामन:फटा दामन ,रुख़सार: गाल --साग़र सिद्दीक़ी
रोज़ों की सख़्तियों में न होते अगर असीर
तो ऐसी ईद की न ख़ुशी होती दिल-पिज़ीर
सब शाद हैं ,गदा से लगा शाह ता वज़ीर
देखा जो हमने ख़ूब तो सच है, मियाँ नज़ीर
ऐसी न शबे बरात , न बकरीद की ख़ुशी
जैसी हर एक दिल में है इस ईद की ख़ुशी

असीर :क़ैद , दिल-पिज़ीर :मन भावन
शाद : ख़ुशी, गदा :भिकारी ,
शाह ता वज़ीर :राजा से मंत्री तक
शबे बरात: रमज़ान में रहमत की रात


--नज़ीर अकबराबादी
तंगदस्ती और फिर बच्चों की आँखों में उम्मीद
मुफ़लिसी का इम्तिहान लेने को आजाती है ईद
मेहबूब से पाता है ज़िया ईद का चाँद
आज से पहले तो ऐसा न खिला ईद का चाँद
ईद फिर ईद है ,बस लेके ख़ुशी आती है
बे-बसी की कहाँ सुनता है सदा, ईद का चाँद

तंगदस्ती:तंग हाथ/आभाव , मुफ़लिसी :ग़रीबी
ज़िया:प्रकाश , सदा: आवाज़

-- मुमताज़ अज़ीज़ नाज़ाँ
तुमने तो अपने दिल की अम्मी से कह सुनाई
अब्बा के दिल से पूछो, बिपता किसे सुनाये
बच्चो , तुम्हारी ईदी कैसे बढ़ाई जाए !
--मुज़फ़्फ़र हनफ़ी
हो गए थे ईद की रंगीन सा-अत में जो गुम
ढूंडती हैं अब भी उन बच्चों को माएं,ऐ ख़ुदा
सा-अत: समय, गुम: खोना
-- रईसुद्दीन रईस
हालात 'शहाब' आँख उठाने नहीं देते
बच्चों को मगर ईद मनाने की पड़ी है

--शहाब सफ़दर
ईद के दिन जो तेरी दीद न होगी ऐ दोस्त
ईद तो होगी , मगर ईद न होगी ऐ दोस्त
ईद: त्योव्हार/ ख़ुशी , दीद :दर्शन

--शमीम करहानी
तंगदस्ती और फिर बच्चों की आँखों में उम्मीद
मुफ़लिसी का इम्तिहान लेने को आजाती है ईद
मेहबूब से पाता है ज़िया ईद का चाँद
आज से पहले तो ऐसा न खिला ईद का चाँद
ईद फिर ईद है ,बस लेके ख़ुशी आती है
बे-बसी की कहाँ सुनता है सदा, ईद का चाँद
तंगदस्ती:तंग हाथ/आभाव , मुफ़लिसी :ग़रीबी
ज़िया:प्रकाश , सदा: आवाज़

-- मुमताज़ अज़ीज़ नाज़ाँ
यही दिन अहल-ए-दिल के वास्ते उम्मीद का दिन है
तुम्हारी दीद का दिन है ,हमारी ईद का दिन है
ज़हे क़िस्मत, हिलाल-ए-ईद की सूरत नज़र आई है
जो ये रमज़ान के बीमार, उन सब ने शिफ़ा पायी है
अहल-ए-दिल:दिल वाला /प्रेमी ,दीद:दर्शन ,ईद :ख़ुशी
ज़हे क़िस्मत:ख़ुशक़िस्मत,हिलाल-ए-ईद :ईद का चाँद
शिफ़ा पाना :स्वस्थ होना


-- मजीद लाहोरी

सारा घर खुश था, मगर तेरे बिछड़ जाने से
ईद का दिन भी लगा मुझको मुहर्रम जैसा

मुहर्रम : ग़म का दिन
--हसन काज़मी
कब तलक अर्श से फ़रमान सुनाएगा हिलाल
कभी आँगन में उतर और कभी ईद भी कर

अर्श:आसमान ,हिलाल:पहले दिन का चाँद
--अलीना इतरत रिज़वी
ईद का दिन है आज सनम यूँ न मुझ पर टूट
ईद मना ले, ऐ जानम आज न मुझ से रूठ।
पूरी होगी, ग़म न कर ईद मिलन की आस
पलभर में ही बरसों की ईद बुझाए प्यास।
सनम : महबूबा ,जानम :मेरी जान

--अरशद मीनानगरी
ख़ुशबू से लिख रही थी हवा ईद-मुबारक
फूलों ने खिलखिला कर कहा ईद-मुबारक
जैसे ही मेरा चाँद उधर बाम पे आया
हर सम्त से आई ये सदा, ईद-मुबारक
बाम :छत ,सम्त:ऒर /तरफ़ ,सदा :आवाज़
--तहसीन मुनव्वर
महेक उठी है फ़ज़ा पैरहन की ख़ुश्बू से
चमन दिलों का खिलाने को ईद आई है
फ़ज़ा : माहोल,पै-रहन:लिबास ,वस्त्र
--मो. असदुल्लाह



ईद उल फ़ितर पर विशेष संपादकीय


मीर का ईद के बारें में शेर पर गौर फरमाएँ
ईद आई है बन के दुल्हन दोस्तों,
खिल उठे हैं चमन-दर-चमन दोस्तों।
मिल रहे हैं खुशी से यहाँ सब गले,
... एक होने लगे जान-ओ-तन दोस्तों। 


जी हाँ आज ईद के मौके पर उक्त पंक्तियाँ हमारे दिलो-दिमाग में नई ऊर्जा भर देती है। वैसे दुनिया हर धर्म एक अच्छे इंसान बनने का सबक देता है। एक दूसरे धर्म व इंसान को इज्जत बकशने का पैगाम देता है। पिछले दिनो मुझे निज़ामुद्दीन औलिया अपनी बॉलीवुड स्टार वीना मलिक द्वारा मज़ार पर चद्दर चढ़ाने की वजह से जाना हुआ। वहाँ रोजे के दिनों में मुसलमान भाइयों को मस्जिद में जाकर नमाज व रोजा खोलने की प्रक्रिया को नजदीकयों से देखने का मौका मिला। वहाँ स्थित एक बुक स्टाल से मैंने एक पुस्तक खरीदी जिसमें निम्न पंक्तियाँ मुझे भा गई। वही आपके समक्ष पेश कर रहा हूँ।


तबलीग
मुसलमानो!
तुम आराम और राहत के लिए नहीं पैदा किए गए। तुम इस लिए पैदा किए गए हो कि इस्लाम का बोल बाला करो, अल्लाह से रिश्ता जोड़ो, इंसाफ और सच्चाई को फैलाओ और बुरी बातों को दुनिया से खत्म करो।
मुसलमान होने का यह मकसूद नहीं कि दुनिया में ऐश व आराम मिलेगा, या दौलत या इज्जत मिलेगी। मुसलमान होने का मतलब यह है कि इंसाफ और सच्चाई के रास्ते पर अमल करो, अपनी आखिरत दुरस्त करो। तुम अगर इंसाफ और सच्चाई के रास्ते पर अमल करोगे तो दुनिया की इससत और दौलत भी तुम्हारे कदम चूमेगी मगर पहले सच्चाई के साथ जीना सीखो, इंसाफ के लिए मरना सीखो, अल्लाह के लिए कुर्बान होना सीखो। 


दीन और ईमान की आज़माइश
मुसलमानो!

अल्लाह के प्यारे नबी मुहम्मद रसूल अल्लाह सल्लल्लाहू अलेहि व सल्लम की ज़िंदगी से सबक हासिल करो।
दीन के लिए मुसीबतें उठाना सीखो।
ईमान के लिए अजीयतें सहनी सीखो।
सच्चाई के लिए कुर्बान होना सीखो।
सच्चों के लिए मरना सीखो।
अल्लाह के लिए शहीद होना सीखो।

उक्त पंक्तियाँ इस्लाम धर्म के बारें में हज़रत मौलाना हकीम मुहम्मद अखतर साहिब द्वारा रचित
“रसूलुल्लाह अलेहि वसल्लम की सुन्नतें” पुस्तक के पृष्ठ संख्या 48 से ली गई हैं। जिसमें मुसलमियत को बखूबी बयां किया गया है। ना जाने फिर भी हम एक दूसरे के धर्मों में क्यों दोषारोपण करते हैं।

ग्रन्थ चाहें वह किसी धर्म के हों हिंसा की कहीं पर आज्ञा नहीं देते हैं धर्म के तथाकथित ठेकेदारों नें अपनी अपनी धार्मिक दुकानें चलानें के लिए साम दाम दंड भेद इन चारों नीतियों को अपना रखा है और हम उनकी बातों में फसकर अपने उन संतों के आदर्शों को भूलते जा रहें है जो हमें सद्भाव और मैत्री की शिक्षा देते हैं | हम स्वार्थवश यह भी भूलते जा रहे हैं की हमारे पैगम्बर और अवतार हमें जो ज्ञान और शिक्षा देकर गए हैं वह आज भी हमारे सर्व मान्य ग्रंथों में स्वर्णाक्षरों में उचित प्रकार से मौजूद है हम अवतारों और पैगम्बरों के नाम पर आडम्बर तो बहुत करते हैं परन्तु उनके मूल उद्देश्यों से भटकते जा रहें हैं | अगर हम आपस में भाईचारा रखते हुए सबसे प्रेम का व्यवहार रखेंगे तभी सर्वधर्म समभाव् और अहिंसा परमोधर्मः का अर्थ स्पष्ट कर पायेंगे, जो हमारी आने वाली पीढ़ी का मार्गदर्शन करने में सर्वोत्तम सहायक सिद्ध होगा|

All humans are humans, the only difference is their believing and no one should really bothered by each other. Leave peacefully and let other peacefully.

अल्लामा इक़बाल का यह शेरमजहब नहीं सिखाता आपस में बैर रखना,

हिंदी हैं हम वतन है हिन्दोस्ता हमारा ||
अपने आप ही खुद की खुदाई बयां कर देता है।
सभी धार्मिक त्योहार किसी विशेष धर्म की धरोहर नहीं है वे हर उस इंसान का त्योहार जो इंसानियत के बात करे। आओ सभी धर्मों के लोग दिल से गले मिलकर ईद मनाएँ। हिंदुस्तान ही नहीं पूरे जगत को अपना घर समझे और सभी देशवाशियों को अपना सगा व हितैषी समझकर स्वच्छ समाज निर्माण में सहायक साबित हो सकें। तभी इंसानियत की जीत होगी जो सभी धर्मों से बढ़कर है हमें इसका सम्मान करना चाहिए। आपके सुझाव व प्रति क्रियाएँ अपेक्षित हैं। उचित समझे तो जरूर शेयर करें। इससे हमें और अधिक प्रेरणा मिलेगी।

सुरेन्द्र सिंह डोगरा
ssdogra@journalist.com

Photo : Shivam Saxena

Thanks for your VISITs

 
How to Configure Numbered Page Navigation After installing, you might want to change these default settings: