Search & get (home delivered) HOT products @ Heavy discounts

Tuesday, July 25, 2017

देहरादून के ONGC ट्रेनिंग कैम्प


देहरादून के ONGC ट्रेनिंग कैम्प में उच्च प्रशिक्षण के लिए शरद जोशी जी के नेतृत्व में रवाना होते दिव्यांग खिलाड़ी भाई हरीश चौधरी जी अनिल सिंह राणा, रितेश द्विवेदी, अक्षत रुहेला, अजय बोराई, को माल्यार्पण कर शुभकामनाएं देकर विदा करते युवा नेता सुशील गाबा, पार्षद मोनू निषाद व वरिष्ठ पत्रकार लेखक एस.एस.डोगरा जी।

Monday, July 24, 2017

Haryana 6th in industrial growth, want to make it first: CM Khattar

Haryana Chief Minister Manohar Lal Khattar has said that, "Haryana has got the 6th position in industrial growth but we want Haryana to be in the first or second position. To achieve that we are trying to give the better facilities to the industrialists and from now on all the files related to all the department will be handled under one roof."

He was speaking at the inauguration of a world-class Science and Technology R&D hub - the Keystone Knowledge Park (KKP) on Monday located at, Sohna road, Gurugram in the heart of Haryana State.

Chief Minister Khattar said that, "I'm very happy to know about the project, it is a special economic zone (SEZ) as well as research centre. Through this project they've built a national asset and it should go in the right hands so that it can be properly utilised. The investors will come and set-up new manufacturing units, eventually it will create job opportunities."

The Knowledge Park project is a flagship and ambitious project set up by the renowned Mayar Group and is located at Gurugram, Sohna road in the heart of Haryana State.

KKP is a fully-developed Knowledge Park equipped with ready to move in 2,25,000 sq ft area in a scientific building designed for R&D and also offers Industrial plots for manufacturing.

The KKP project is strategically located with excellent road, rail and air connectivity and is close to the IGI airport at New Delhi, therefore making communication faster and simpler.

Being a part of the special economic zone (SEZ), KKP enjoys various tax concessions and incentives provided by the Central and State government for companies interested in R&D and manufacturing.

Ajit Sud, CMD Mayar Group, welcomed the Chief Minister and explained in detail the vision and passion which went into the creation of this international standard infrastructure for promoting R&D and manufacturing activities.

He emphasised that this highly capital-intensive knowledge hub is a major step in taking forward the vision of the Prime Minister Narendra Modi, particularly the "Make in India" and "Start Up India" initiatives, as it offers a great potential for attracting huge investments into the state and generating substantial employment opportunities thereby playing a vital role in economic growth of the state.

The Chief Minister also witnessed the execution of a MoU between Haryana government and Keystone knowledge Park for making available ten thousand sq. feet area for eligible start-ups financially sponsored by the Haryana government.

The Haryana government is providing several operational benefits accruing to SEZ projects such as single window clearance, custom clearance on self-certification basis and no routine examination by custom department. Financial benefits such as IT exemption on export profit and export benefits to suppliers of goods and services from domestic market to SEZ will also accrue.

According to the statement issued by Mayar group, the companies coming to the KKP will have immense ease of doing business from here as there is a large pool of scientific, technical and non-technical human resource available in the area due to the presence of various science institutions like NII, ICGEB, IGIB, THSTI, IITD, AIIMS etc including private hospitals like Medanta, Fortis and Max in close proximity.

Media Can Do Wonders in Students Life by S.S. Dogra



Click here to purchase @Amazon

Click here to purchase @Flipkart


Click here to purchase @Paytm


Click here to purchase @pblishing.com

RIMJHIM KE TARAANE: PRESENTED BY DWARKA KALA SARGAM

Dwarka Kala Sargam, a musical organization which appreciates and promotes the melodious music and provide a platform for aspiring singers to showcase their talent, presented a musical evening “ Rimjhim ke taraane” on Sunday, July 23, 2017 in Appu Enclave, Dwarka. The melodies from the Golden Era of Hindi Cinema took the center stage when singers traced the journey of songs by crooning hit numbers – like “Rimjhim ke taraane le ke…, Sharaabi sharaabi ye sawan ka….’ “Hamaare dil se na jaana…”, “Jab chali thandi hawa…”, “Zindagi dene wale sun…’, “Ai sanam jisne tujhe chaand si surat di hai……”, “Chookar mere dil ko…”, “ Rimjhim gire sawan…” “Julmi sang aankh ladi…” “ Wo paas rahe ya door rahe…”, “ Ja re kaare badraa….’, “ Jis dil me basa tha puaar tera…”, “ tera jaana dil ke …”, “ Tasweer banata hun…”, “Yaad kiya dil ne kahan ho tum…..”, “ O mere dil ke chain…” and many more .

The foot tapping number “Julmi sang aankh ladi…...” by Ms. Ritu dogra enthralled the audience. Mr. R. K. Jain rendered the audience awestruck with his soul stirring voice. Mrs. Karuna Srivastava, Mr. Deepak Malik, Ms. Kamlesh Soni , Mr. Amarjeet Singh Sohal , Ms. Kanwakjeet Kaur, Ms. Promila Malik and Ms. Ritu Dogra spellbound the audience. Mr. Joginder Malik and Mr. MVS Rao gave their debut performance. Ms. Shashi Jain, as an anchor, added spark to the show.

The hall was jam packed. People were searching for chairs. The evening of entertainment won great acclaim and applause of the large gathering of music lovers of the city.

Citizen's reporter
Shashi Jain

Secretary-Dwarka Kala Sargam

हरियाली तीज बेटियों के मान-सम्मान का प्रतीक भारतीय संस्कृति का महत्वपूर्ण पर्वः दयानंद वत्स


कैनी क्लब के तत्वावधान में आज पूर्वी दिल्ली के क्रास रीवर माल, कडकडडूमा स्थित ला कॉरडियल बैंक्वैट में हरियाली तीज उत्सव अनुराधा खन्ना और मधु गोयल के संयोजन में धूमधाम से मनाया गया।

इस अवसर पर उपस्थित महिलाओं ने हरियाली तीथ के पारंपरिक लोकगीतों ओर लोकनृत्यों से समां बांध दिया। महिलाओं के लिए विभिन्न प्रकार की प्रतियोगिताऐं आयोजित की गईं। नेहा वर्मा तीज क्वीन चुनी गईं। प्रथम रनर अप मानसी शर्मा और दूसरी रनर अप बरखा बंसल रही। सौंदर्य प्रतियोगिताओं में मेंहदी, मेकअप, फैंसी ड्रैस, सैल्फी, डांस में महिलाओं ने बढ चढकर हिस्सा लिया।

आयोजन समिति की अध्यक्षा अनुराधा खन्ना और संयोजिका मधु गोयल के अनुसार दि आर्ट ऑफ गिविंग फॉउंडेशन ट्रस्ट के अध्यक्ष शिक्षाविद् दयानंद वत्स, वरिष्ठ पत्रकार सुनीता सुशील वकील, समाजसेविका सुधा शर्मा, आर.जे मनीष आजाद रेडियो वाला समारोह में विशिष्ठ अतिथि थे। अपने संबोधन में श्री दयानंद वत्स ने कहा कि सावन में हरियाली तीज उत्सव का विशेष महत्व है। विवाहित महिलाओं के लिए तीज का खास महत्व है। नवविवाहितों की पहली तीज पर ससुराल पक्ष की और से वधू के लिए सिंधारा भेजा जाता है जिसम़े मिठाइयों में घेवर, फीनी, फल, नये वस्त्र और श्रृंगार सामग्री, झूल, पाटडी भेजी जाती है और लडकी अपने मायके में रहती है। दूसरी तीज पर वधू पक्ष वर पक्ष के यहां तीज की कोथली शगुन लेकर जाते हैं और दूसरी तीज पर नवविवाहिता ससुराल में रहती है। श्री वत्स के अनुसार दिल्ली और हरियाणा के ग्रामीण क्षेत्रों में बेटियों के यहां तीज पर आजीवन सीदधा कोथली देने की परंपरा है। जिसमें नए वस्त्र, मिठाइयां भेजी जाती हैं। बहने बेसब्री से तीज पर अपने भाई के आने का इंतजार करती है। सभी विजेता महिलाओं को अतिथियों ने उपहार भेंट किए। इस तीज उत्सव में बडी संख्या में महिलाओं ने भाग लिया।

Happy Birthday- Manoj Kumar


Sunday, July 23, 2017

Union Minister Vijay Goel and Cricketer Gautam Gambhir told the importance of nutrition for a healthy lifestyle at Fit India Conclave

New Delhi, Vijay Goel (Union Minister, youth and sports, Govt. Of India) and cricketer Gautam Gambhir told about the importance of nutrition in our lives, discussions about the benefits of adopting a healthy lifestyle in the FITINDIA Conclave.
Lighting the lamp at FITINDIA Conclave Mr. Vijay Goel, Union Minister, Ministry of Youth Affairs and Sports, 
GOI,Mr.GautamGambhir, Cricketer, Mr. AvikSanyal, Organizer (R), Fit India, CEO,

On this occasion, Union Minister Vijay Goel said that today many citizens of our country need to be aware of fitness. Ministry is constantly trying for it. I am going to give a slogan to the country “Stay Fit India”. If we educate the citizens of the nation about the fitness, then the country will be the most prosperous. Mr. Goel also said that soon there will be a law in the country regarding nutrition which is going to stop doping in our country.

In addition, Goel also said that we get the maximum number of players from Villages, Slum and backward areas. Being fit For Delhi; we will soon be organizing rural games in whole of Delhi.

Vijay Goel also highlighted the yoga as well. Mr. Goel said that Yoga is very important for physical and mental development & Nutrition has a very big role in this development.At FIT INDIA Conclave, Gautam Gambhir, the player of the Indian cricket team, said, "What we eat, it makes a different role in our lives." Nutrition is a big part of my career in cricket. The right nutrition makes a lot of difference to our health. If you have a Trained Fitness Trainer then your chances of getting sick are greatly reduced.
Mr. Vijay Goel, Union Minister, Ministry of Youth Affairs & Sports,Mr.GautamGambhir, Cricketer,
Sh.Sudhir Gupta(MP, 2nd R), Avik Sanyal, Organizer (L),Fit India and CEO,FSSAI,Mr.Sam Bedi(R)

During the Fit India conclave organised by Glanbia, Mr. Avik Sanyal, Country Head of Glanbia, said that there is a great need to make India's people aware about the fit for which we will work together with the government in people's health related programs.

On this occasion, Mr. Sam Bedi, Regional Director of Glanbia said that we are organizing Fit India program under our corporate social responsibility in other cities of the country, In which the importance of nutrition for the people to be healthy is being explained, Which aims to keep people healthy and to protect themselves from diseases.

Accountability vs Authority

-Commander VK Jaitly 

On April 9, 2017 Major Nitin Leetul Gogoi tied a local youth to the bonnet of a jeep who was throwing stones in Badgam. The errant youth was used as a shield against stone pelters during a counter insurgency operation. Major Gogoi was surrounded by a huge crowd of more than 1000 people at the time of polling in the area. He urged the crowd to disperse, but they did not do so and instead started stone pelting. A petrol bomb was also thrown. The moment Major Gogoi tied the youth in front of his jeep, stone pelting stopped immediately. With this idea, he saved many people’s lives. He could then easily rescue a number of polling officials and others civilians also.

Major Gogoi was accountable for maintaining law and order in that area of Kashmir. He did his job beautifully. The social media was full of praise and compliments for Major Gogoi. He became an instant hero for all the young people with national fervour in their heart. But this innovative action by the Army Major was severely criticized by the friends of terrorists and some spineless politicians in the name of violation of human rights. The Major could act in a way he felt most suitable to control the stone pelting mob as he had the authority from his superiors.

Nobody can be held accountable for non-performance if you don’t give him or her the due authority. Accountability and Authority go hand in hand. They are the two wheels of the same bicycle. The one without the other is no good and of no use. This is the mistake that many managers and leaders do. They give a lot of responsibility to their juniors and hold them accountable for achieving results. But they hold the authority in their own hands instead of passing on to those responsible for achieving the results.

Authority is the right or power assigned to an individual to enable him/her to carry out the duties for which the individual is accountable to his/her boss. Authority gives the freedom to take timely decisions for the benefits of the organization. If you are accountable for the performance of say 200 employees under you, then you must have the authority to give them the rewards and recognition, obviously within certain boundaries that adhere to the company policies. Similarly, you should have the authority to take disciplinary action against some erring employee out of these 200 employees under you, if required at any time.

A good number of organizations suffer from low productivity, absenteeism and indiscipline despite having very good supervisors and managers. This happens due to the failure of leadership that has set the targets for their managers and they hold them accountable for meeting them. But the conservative leadership didn’t pass on the authority to their managers. If you are responsible for the smooth functioning of an assembly line on the shop floor for 24 by 7, then you should have the authority to get a part of the machinery replaced if that is causing recurring break downs. Here again, the authority can be given for an expenditure up to a certain level and then the level is raised for expenses beyond your powers. And these powers of yours as manager for expenditure should also be not that low that every now and then you have to raise the level even for minor repairs. At the same time the authority to spend can’t be that high that the mangers start misusing their power given to them in the name of better efficiency and effectiveness.

Authority and Accountability are the two associative terms on which any business enterprise or any organization functions. For any organization to work efficiently, there has to be an appropriate balance between the two. Authority is rights assigned to a team leader, whereas accountability is the performance using those rights. Authority and Accountability work in a parallel arrangement for successful working of the business enterprise. They both are allocated to a person after he/she has gained adequate experience, knowledge and skills in the respective field.

Remember that authority in the wrong hands can cause huge losses to organizations. We keep hearing cases of unimaginable levels of corruption not only in our country but across the globe. This happens when people with low ethics and low moral values occupy high offices and they use their authority in blatant manner for their own selfish motives and forget that they are also accountable to someone for their behaviour. So, there should be sufficient checks and balances everywhere such that the dishonest cannot take the system for a ride in the name of authority to perform their functions. At the same time, an honest, dynamic and devoted person should not be deprived to perform his/her normal duties for which he/she is accountable and is being paid for.

Happy Birthday- Himesh Reshammiya


Saturday, July 22, 2017

Investiture Ceremony held at Shiksha Bharati Public School


Shiksha Bharati Public School, Sector 7, Dwarka held Investiture Ceremony on 21st July 2017. The chief guest Sri Bhupendra Gupta, Councilor, Bijwasan Constituency was welcomed by Principal Madam. Ganesh Vandana was performed by the students of Primary Wing which mesmerized the audience. 

Rewards were given away to the previous Council members there after badges were pinned on to the shirts of new Council members. Oath was read by the chief guest and repeated by the Council members. They promised to discharge their duties sincerely. 

The chief guest's speech was highly inspirational in which he lay emphasis on the need and importance of education. Honorable manager madam conveyed her blessings and congratulations to the new Council members and wished them a good luck. The programme came to an end with the vote of thanks which was proposed by Principal Madam.

FITINDIA Conclave inaugurated by Union Minister Vijay Goel & Gautam Gambhir


(Photo & Report: S.S.Dogra)
New Delhi:22 nd July,2017; FITINDIA CONCLAVE inaugurated by Mr.Vijay Goel-Union Minister for Youth Affairs & Sports, Govt. of India along with Famous Cricketer Gautam Gambhir at Taj Man singh Hotel. This conclave was organized by Glanbia-a global nutrition company to promote greater focus on nutrition and physical activity across India.

According to Mr. Avik Sanyal-Organizer of the said conclave, “The Fit India campaign, with its three vital pillars, Educate, Inspire and Enable, aimed for making India a fit nation and so that we can say with pride in the future that Yes, we made a difference.”

In the concluding session, a panel discussion was held by eminent thinkers Dr. Harsh Mehta-Cardiologist, Mr.Suraj Datwani-Nitionist, Mr. Pawan Kumar Agarwal(IAS), CEO, FSSAI, Mr.Sam Bedi-Regional Director Glanbia Performance. Ms. Rakhi Bakshi hosted the panel discussion beautifully.

Dwarka Kala Sargam presents Rimjhim ke Taraane


7th International Conference on Management Practices & Research (ICMPR-2017) held at Apeejay School of Management, Dwarka, New Delhi


Apeejay School of Management, Dwarka, New Delhi, in association with College of Business and Innovation, University of Toledo, USA, organized the 7th International Conference on Management Practices & Research (ICMPR-2017) on 21st July 2017 in its campus. 

The theme of the conference was ‘Governance, Management & Innovation’. The conference served as an interactive platform for diverse aspects of governance and management of businesses and emerging innovative trends in search of excellence, efficiency and long term sustainability. It brought together more than 50 delegates from various national and international institutes who shared their views and experiences through paper presentations and discussions. 

In the inaugural session, Prof. Amit Sareen, Director, Apeejay School of Management welcomed the guests and wished them a great learning experience in the conference. He expounded on the nuances of research and its varied dimensions related to business. Dealing with the Conference perspectives, Prof. Ashok Ogra, Director, Apeejay Institute of Mass Communication, New Delhi, broached on how governance and innovations had become critical in emerging business scenarios and illustrated with lively examples. Thereafter, inaugural address of the conference was delivered by Mr. S.R. Bansal, former Chairman and Managing Director, Corporation Bank. He eloquently highlighted the importance of governance and innovation in global businesses and role of corporate boards in this respect. In the key note address, Prof Birud Sindhav, from University of Nebraska, Omaha, USA, gave a very interesting account of churning being seen in today’s business era and the challenges it posed to management professionals. 

The inaugural session was followed by parallel technical sessions with multiple tracks on Human Resource Management, Marketing, Finance, International Business, General Management, Information Technology and Operations Management wherein academicians, researchers and practicing managers and other scholars presented their research findings and perspectives. The deliberations during the conference would certainly stimulate academia engaged in business research to delve deeper into the serious issues faced by business today. In the end, Dr. Chhaya Wadhwa, the Co-Convenor of the conference presented a vote of thanks.In the end, Dr. Chhaya Wadhwa, the Co-Convenor of the conference presented a vote of thanks.

Happy Birthday-Mukesh


Friday, July 21, 2017

Sister Nivedita’s 150th Birth Anniversary Celebrations - Swachchha Ganga (A River with a Soul)


Teej celebrations in Dwarka


FIFA U-17 World Cup India 2017: Third phase of online ticket sales kick off

After an impressive response by fans following phases 1 and 2 of ticket sales for the FIFA U-17 World Cup India 2017, the Local Organising Committee (LOC) is set to launch phase 3 on 21 July, which will last until 5 Octoberon fifa.com/india2017/ticketing. During this phase, fans will have the opportunity to buy individual tickets to watch the stars of tomorrow with a 25 per cent discount. 

In Kolkata, Kochi and Guwahati, all available tickets were sold in the first two phases.

Speaking about the launch, FIFA Deputy Secretary General Zvonimir Boban said: “The outcome of the first two sales phases confirmed the unique football passion of India’s fans. We are very confident that the upcoming sales phase will continue the trend as the sense of anticipation grows in every host city. This year’s FIFA U-17 World Cup will be an absolute milestone in the competition’s history.”

After the Official Draw determined the fate of all 24 participating countries, another host city – New Delhi, the venue for all of host country India’s matches – has attracted great interest from local fans, with ticket sales exceeding the 100,000 mark on 14 July.

Describing what is surely a revolutionary chapter in Indian Football, LOC Tournament Director Javier Ceppi commented: “The response that we have had in the first two phases has been fantastic and we expect it to continue like that. Football fans in the country have shown their interest in the tournament and we are very sure that Indian supporters will put a tremendous show for all the rest of the world to watch in October.”

A total of 52 matches will be played between 6 and 28 October. The Official Draw has thrown up some brilliant group-stage matches, with several blockbuster encounters on offer in all host cities. The 24 qualified teams will begin the tournament in six groups of four, with the top two teams in each group making it through to the knockout stage.

Visa, an official FIFA Partner, is the preferred payment method of the FIFA U-17 World Cup India 2017.

Thursday, July 20, 2017

NIMC celebrating 10 years of excellence


DELHI METRO RAIL's ELEVATED TRACKS ADDING TO CITY's DRAINAGE PROBLEM

International Road Federation (IRF) global body working for better and safer roads world wide expressing concern at water logging on Delhi roads during rains, which becomes a major reason for traffic woes in Delhi each year has suggested setting up of a unified nodal agency and a multi agency control room consisting of representatives of all concerned civic bodies to tackle the annual problem.

"Each year during monsoons water accumulation on various roads throws life out of gear for few hourssoon after a heavy downpour, resulting in snarling traffic jams, leaving commuters fuming and fretting. More than Ten government and civic agencies are currently involved in road and drainage system making task of fixing responsibility difficult" said Mr K K Kapila , Chairman, International Road Federation (IRF) .

“Road network in Delhi encompasses different zones of Authority like Municipal Corporation of Delhi, Public Works Department, New Delhi Municipal Corporation and Delhi Development Authority, NHAI, apart from the Delhi Jal Board, which is responsible for the drainage of storm water and sewage. Each year after the monsoons, a debate and confusion ensues as regards a particular agency’s responsibility for keeping roads free of water. However, the end result one witnesses is acute water logging, deep pot holes, portions of the roads getting sub-merged and side-walks becoming unusable, causing immense hardship to the general public.” Said Mr Kapila.

“Apart from the suggestion for creating a Unified Nodal agency and a multi-agency control room consisting of DDA, PWD, DJB, all three MCD’s, NDMC ,DMRC NHAI and Power Discoms BSES & NDPL to tackle the drainage problems of Delhi, with representatives from each Agency for initiating appropriate long and short term measures, there is an urgent need to find immediate solutions to contain the damage due to flooding of our roads.” Said Mr Kapila.

"Transferring the management and maintenance of roads and drainage to a single authority will help in fixing accountability. Apart from setting up nodal agency a long term solution with proper network of drainage lines with adequate capacity for storm water and sewage drains is an immediate necessity.” He added.

"However, till such time the long term measures are completed, immediate short term measures must be simultaneously undertaken at locations witnessing water logging. Water Harvesting is one such measure which will immediately remove excess water through harvesting pipes thereby relieving the road stretch from flooding. The agencies named above can identify these locations for water harvesting. This will eventually make all our roads usable during monsoon and thus alleviate the problems of the general public." MR Kapila Said .

“Delhi Metro Rail despite having Rain Water Harvesting system on various routes also needs a separate drainage system to channelise rainwater released from the Metro's elevated tracks to save roads from being damaged and also help in water harvesting” added Mr Kapila.

“Delhi Metro's elevated tracks are also partially adding to the city's drainage problems, as rainwater from the elevated structures flow with force on roads, creating more problems for choked city drains and causing hardships to pedestrians, cyclists and motorcyclists. Proper disposal of this water would reduce waterlogging on several stretches in the city,” said Mr. Kapila.

इंडिया हेबिटेट सेंटर में चित्रकला व मूर्तिकला की प्रदर्शनी का उदघाटन करेंगी देश की तीन मशहूर हस्तियां

देश के नामी चित्रकार रूपचंद, नवल किशोर, आनन्द नारायण व उभरे हुए युवा मूर्तिकार नमन महिपाल की कलाकृतियों की प्रदर्शीनी लोधी रोड, नई दिल्ली स्थित प्रतिष्टित इंडिया हेबिटेट सेंटर, की ओपन पाम कोर्ट कला दीर्घा में "इम्पल्स" शीर्षक से आयोजित होंने जा रही है ! 

इस कला प्रदर्शीनी को क्युरेट प्रसिद्ध कला पारखी उमेश सोईन के पुत्र निपुन सोइन ने किया है ! निपुन ने बताया कि इस प्रदर्शीनी का भव्य उदघाटन 2 अगस्त को सायं 6 बजे देश की तीन नामी हस्तियों जिनमें विश्वविख्यात मूर्तिकार व आईफेक्स के अध्यक्ष पद्मभूषण श्री राम वी. सूतार, मशहूर चित्रकार व ललित कला महाविद्यालय दिल्ली के पूर्व प्रधानाचार्य प्रोफेसर नीरेन सेन गुप्ता व सुप्रसिद्ध शिक्षाविद व दि आर्ट ऑफ गिविंग फॉउंडेशन ट्रस्ट, नई दिल्ली संस्था के चेयरमैन श्री दयानन्द वत्स द्वारा किया जाएगा ! 

यह कला प्रदर्शनी 2 अगस्त से 6 अगस्त 2017 तक रोजाना प्रातः 11 बजे से शाम 7 बजे तक देखी जा सकेगी !

Happy Birthday-- Naseeruddin Shah


Wednesday, July 19, 2017

Melisa Martin Feifer and Jonathan Davis, of Florida, USA




Melisa Martin Feifer and Jonathan Davis, of Florida, USA singing the title song of the short film by S.S. Dogra.

View full video at link: https://youtu.be/YKrOP-qB5iQ

2 अगस्त को शाम छह बजे, इंडिया हेबिटेट सेंटर में चित्रकला व मूर्तिकला की प्रदर्शनी का उदघाटन करेंगी देश की तीन मशहूर हस्तियां


देश के नामी चित्रकार रूपचंद, नवल किशोर, आनन्द नारायण व उभरे हुए युवा मूर्तिकार नमन महिपाल की कलाकृतियों की प्रदर्शीनी लोधी रोड, नई दिल्ली स्थित प्रतिष्टित इंडिया हेबिटेट सेंटर, की ओपन पाम कोर्ट कला दीर्घा में "इम्पल्स" शीर्षक से आयोजित होंने जा रही है ! इस कला प्रदर्शीनी को क्युरेट प्रसिद्ध कला पारखी उमेश सोईन के पुत्र निपुन सोइन ने किया है ! निपुन ने बताया कि इस प्रदर्शीनी का भव्य उदघाटन 2 अगस्त को सायं 6 बजे देश की तीन नामी हस्तियों जिनमें विश्वविख्यात मूर्तिकार व आईफेक्स के अध्यक्ष पद्मभूषण श्री राम वी. सूतार, मशहूर चित्रकार व ललित कला महाविद्यालय दिल्ली के पूर्व प्रधानाचार्य प्रोफेसर नीरेन सेन गुप्ता व सुप्रसिद्ध शिक्षाविद व दि आर्ट ऑफ गिविंग फॉउंडेशन ट्रस्ट, नई दिल्ली संस्था के चेयरमैन श्री दयानन्द वत्स द्वारा किया जाएगा ! यह कला प्रदर्शनी 2 अगस्त से 6 अगस्त 2017 तक रोजाना प्रातः 11 बजे से शाम 7 बजे तक देखी जा सकेगी !

Janasamskriti Delhi conducting 32nd AKG Memorial Lecture by Dr. Thomas Isaac


Exchange of vital financial-information of families necessary before marriage


SUBHASH CHANDRA AGRAWAL
(Guinness Record Holder & RTI Consultant)

Marriage-relations were fixed usually amongst known families in ancient times. But with fast modernisation of society equipped with social networking, marriages are now-a-days fixed at times even through chatting without any personal meeting between marrying couple, what to talk about any meeting between family-members of two sides. Result is India following a western culture where spouses are changed like clothes. Unlike in ancient era when marriage-ties were considered life-long union, there is often lack of trust between husband and wife resulting in unhappy married and family life.

Since one of the main reasons in such case is hiding or misrepresentation of income and financial-background from the other side, central government should consider idea of making it compulsory for exchange of finance-documents of two sides including Income Tax returns. In case two sides agree on exchange of financial details of just bride and groom, it should be in writing to avoid unnecessary harassment to other family-members in later matrimonial-disputes. Cases of cheating bride-side through false presentation of income and financial-becoming increasing, where such married girls have dark future ahead after knowing actual income and financial background, may be resulting in even suicides by victim girls.

System will also result in checking tax-evasion where people will find it advantageous to disclose higher income in the Income Tax returns in fear of feeling problems in getting good matrimonial match. Rather status-conscious society will race for declaring more and more income to get a higher place in a competitive society. All this is necessary because Income Tax returns are not assessable under RTI Act. Provision can be legislated with proposed bill for making marriage-registration compulsory.

Tuesday, July 18, 2017

Sanskriti Samvaad Shrinkhla


Mission XI Million unites people in Jammu and Kashmir



Mission XI Million reached Jammu and Kashmir and successfully conducted its largest seminar till date earlier today. With a record participation of more than 1300 schools from all over the state, football again lived up to its reputation of being the most popular sport in the valley. The thunderous response to the seminar held in Sher-e-Kashmir Indoor Stadium reaffirmed the fact that beautiful game can unite the people of the Jammu and Kashmir.

Speaking about the response at the Srinagar seminar, Tournament Director of the Local Organising Committee for FIFA U-17 World Cup India 2017, Javier Ceppi said, “This is a very important milestone, as we have reached Jammu and Kashmir and we had more than 1300 schools in the seminar. This means a great number of kids will be playing football on a regular basis in this area. The state government has been very supportive and has promised to take MXIM all around the state, which will be something fantastic for football and India”.

Hon’ble Minister of State for Department of Youth Services & Sports, Mr. Sunil Kumar Sharma; Director of Department of Youth Services & Sports, Mr. Shiekh Fayaz Ahmed; Secretary, Government of Jammu and Kashmir, Mr. Hilal Ahmad Parray and Deputy Commissioner of Srinagar, Dr. Farooq Ahmad Lone were also present at the event.

The popularity of football has seen a surge in recent times with the rise in prominence of LoneStar Kashmir Football Club, which has given the people of Kashmir another reason to come together.

Having already touched the southern tip of the country, Kanyakumari, where more than 150 schools participated, the Government of India and All India Football Federation programme spread its wings to the north with this seminar.

Mahabharata - A Critical Revisit of the Tangible and Intangible Heritage’



BHAWATI SEVA in SRI RAM MANDIR


Happy Birthday- Priyanka Chopra


Monday, July 17, 2017

महान दलित विभूतियों का तिरस्कार !

हमारा देश सदियों पुराना देश है जहाँ ना जाने कितने बड़े २ राजे महाराजाओं ने राज किया और देश के इतिहास पर अपने कार्यों के माध्यम से अमिट छाप छोड़ दी! जितना पुराना इस देश का इतिहास है, लगभग उतना ही पुरानी इसकी जातिप्रथा का भी कलंक इसके हिस्से में आता है। कम से कम दस हज़ार वर्षों से तो जातिप्रथा का घुन इस देश के गौरव को एक दीमक की तरह चाट रहा है। इतिहास के पन्नों की परतें फिरोलें तो पता चलता है कि आज से लगभग 5250 वर्ष पहले महाभारत का युद्ध कुरुक्षेत्र की धरती पर हुआ था और उस वक़्त इस युद्ध के महानायक, श्रीकृष्ण की आयु 83 वर्ष की थी! श्री कृष्ण से लगभग 2100 वर्ष पूर्व भगवान राम हुए थे और राम से तकरीबन दो अढ़ाई हज़ार वर्ष पहले मनु महाराज नाम का एक ऋषि हुआ था| इस मनु महाराज से पहले समाज में होने वाले सभी कार्यों में तरलता थी, अर्थात कोई जातिपाति नहीं थी | समाज में अमीर गरीब का भेदभाव तो था, लेकिन समाज में रहने वाले सभी लोगो को अपनी हैसियत और शारीरक बल और बुद्धि के हिसाब से कोई भी काम धंदा करने की सबको आज़ादी थी |

लेकिन फिर मनु महाराज जैसे बड़े ही शातिर दिमाग़ वाले लोगों ने राज घरानों के साथ अपने असर रसूख़ के बलबूते पर इस वर्गीकरण व्यवस्था में ऐसी तबदीलियाँ लानी प्रारंभ करदी (तकरीबन दस हज़ार वर्ष पहले) जिसने कि समाज को एक बहुत बड़े और भयानक बदलाव की दिशा की ओर धकेल दिया| इस मनु महाराज ने समाज में ऐसा बटवारा करवा दिया कि उस वक़्त के जो ग़रीब लोग और उनकी आने वाली अनेकों पीढ़ियों कि दशा ही बदल डाली| क्योंकि राजे महाराजों के लिए यह व्यवस्था ज़्यादा फ़ायदेमंद साबित हो रही थी, उन्होंने इस व्यवस्था को अपनी स्वीकृति दे दी| मैं तो इस मनु महाराज को एक बहुत बड़ा षडयंत्रकारी और चालबाज़ ही कहूँगा, क्योंकि उसने अपने जैसे लाखों अमीरजादों के मुनाफ़े के मद्देनज़र हमेशा के लिए अच्छी आर्थिक सुविधाजनक प्रस्थितियाँ बना डाली और समाज को चार वर्णो में विभाजित कर दिया - ब्राह्मण, क्षत्रिया वैश्य और शूद्र| किसी भी मनुष्य को उसकी अपनी बुद्धि, बल और क्षमता के आधार पर समाज में बढ़ने, फैलने फ़ूलने के सभी दरवाजे बंद कर दिए| पहले जो समाज में व्यवसायों के लिए तरलता थी, वह अब समाप्त हो चुकी थी, क्योंकि इस व्यवस्था के अनुसार, ब्राह्मणों के बच्चे हमेशा ब्राह्मण ही रहेंगे, क्षत्रियों के बचे हमेशा क्षत्रिया ही रहेंगे, और इसी तरह वैश्य हमेशा वैश्य ही और शूद्र हमेशा के लिए शूद्र ही रहेंगे| ब्राह्मणों के लिए पढ़ना-पढ़ाना ही अनिवार्य कर दिया, क्षत्रिय बस देश का शासन और राजपाठ ही संभालेंगे, वैश्य समाज के सभी व्यापार / कारोबार इतयादि ही करते रहेंगे और अंत में शूद्रों को बोल दिया कि आप लोग केवल ऊपर की तीनों जातियों की सेवा ही करोगे| इनके बाकी सभी सामाजिक व आर्थिक अधिकार समाप्त|

तो ऐसे इस षडयंत्रकारी मनु महाराज ने उस वक़्त के गरीबों को तमाम उम्र बाकिओं के दास बना दिया| उनको समाज में रहने वाली अन्य तीनों जातियों को उपलब्ध अधिकार - जैसे कि पढ़लिख कर अपना जीवन सँवारना, जमीन जायदाद का अधिकार, और न जाने कितने फलने फूलने के अवसर, वह सब बंद कर दिए| ऐसी ही शर्मनाक व्यवस्थाओं के चलते सदियाँ बीत गई, युग बदल गए, मगर शूद्रों का शोषण और उनपे होने वाले अत्याचार बंद नहीं हुए| बल्कि, उन पर अपवित्र और अस्पृश्य होने का कलंक और मड़ दिया| यदाकदा इस व्यवस्था को बदलने के लिए कुच्छ क्रांतिकारियों ने यत्न भी किये, मग़र उनकी अवाज़ को बुरी तरह कुचल दिया गया|

डॉ. बी आर अम्बेडकर : उन्नीसवीं सदी के आख़िर में एक योद्धा ने 14 दिसम्बर, 1891 को मध्य प्रदेश के रत्नागिरी जिले (अब महाराष्ट्र) में एक बड़े ही गरीब परिवार में जन्म लिया | भीम राव अम्बेडकर नाम के इस युवक ने बड़ी मुश्किल हालातों में शिक्षा प्राप्त की| उस वक़्त समाज में छुआछूत पूरे जोरों पर थी, दलितों पर खूब अत्याचार भी हुआ करते थे, इनके पढ़ने लिखने के रास्ते में बहुत सी वाधाएं डाली जाती थी, ताकि यह लोग तमाम उम्र अनपढ़ रहकर, ग़ुलाम ही बने रहें और बाकी तीनों जातियों के लोग उन पर अपनी मन माफ़िक जुल्म, अत्याचार और शोषण कर सकें | डॉ. अम्बेडकर ने भी ऐसे ही शोषण और अत्याचारों की बीच रहते हुए अपनी शिक्षा पूरी ही नहीं की, बल्कि उस ज़माने में भी ऐसी और इतनी बड़ी २ डिग्रियाँ हासिल की, कि उनके ज़माने के अपने आप को तथाकथित ऊँची जाति वाले भी उनके सामने फ़ीके पड़ने लगे| देश में अंग्रेज हुकूमत का राज था और चारों तरफ़ गुलामी की जंजीरें काटने और इसको तोड़ने के लिए खूब यतन किये जा रहे थे| देश प्रेमी अपने देश के लिए आज़ादी हासिल करने ख़ातिर जान की बाजियाँ लगा रहे थे, मग़र इसी देश में रहने वाले करोड़ों दलितों को तथाकथित तीनों ऊँची जातियों के लोगों के चुँगल से छुड़वाने के लिए, किसी को कोई चिन्ता-फ़िक्र नहीं थी| बल्कि वह लोग तो चाहते थे कि यह दलित लोग हमेशा के लिए ऐसे ही दब्बे कुचले ही रहें ताकि इनपर अपनी मनमर्जी मुताबिक इनसे काम लिया जाये और इन में से किसी में भी इतनी हिम्मत न आए कि कोई उफ़ तक न कर सकें! वह तो सभी यही मान कर बैठे हुए थे कि यह लोग तो अंग्रेजों से आज़ादी हासिल होने के बाद भी हमारे ग़ुलाम ही बने रहेंगे | 

25 दिसम्बर, 1927 को महाड़, महाराष्ट्र में अपने एक सत्याग्रह के दौरान डॉ. अम्बेडकर ने दलितों के साथ भेदभाव सिखाने वाली, रूढ़िवादी विचारों वाली और अवैज्ञानिक सोच पर आधारित ब्राह्मणवादी पुस्तक मनुसमृति एक भव्य जन समूह के सामने जला डाली और कड़े शब्दों में इस पुस्तक में बताई गई वर्णव्यवस्था सिरे से ही ठुकराते हुए अपने अनुयाईओं को भी इसे बिलकुल न मानने का निर्देश दे दिया! यही नहीं, उन्होंने सार्वजानिक स्थानों पर दलितों को पानी लेने का भी ऐलान किया क्योंकि भगवान ने सभी कुदरती साधन और वयवस्थाएँ सभी इन्सानों के लिए ही की हुई हैं | कुच्छ ब्राहमणवादियों को डॉ अम्बेडकर द्वारा दी गई चुनौतियाँ पसन्द नहीं आई और उन्होंने डॉ अम्बेडकर की इन हरकतों को समाज विरोधी बताया और ऐसा करने वालों में महात्मा गाँधी समेत कांग्रेस के बहुत से बड़े २ नेतागण भी शामिल थे | लेकिन डॉ आंबेडकर उनकी परवाह न करते हुए अपने मिशन में आगे बढ़ते ही जा रहे थे| दूसरी तरफ़, डॉ अम्बेडकर ने अंग्रेजीहुकूमत को बार-बार पत्र लिखकर depressed class की स्थिति से अवगत करवाया और उन्हें अधिकार देने की माँग की। बाबा साहेब के पत्रों में वर्णित छुआछूत व भेदभाव केबारे में पढ़कर अंग्रेज़ दंग रह गए कि क्या एक मानव दूसरे मानव के साथ ऐसे भी पेश आ सकता है। बाबा साहेब के तथ्यों से परिपूर्ण तर्कयुक्त पत्रों से अंग्रेज़ी हुकूमत अवाक रहगई और उसने 1927 में depressed class की स्थिति के अध्ययन के लिए और डॉ. अम्बेडकर के आरोपों की जाँच के लिए अंग्रेज़ हुकूमत ने एक विख्यात वकील, सरजॉन साईमन की अध्यक्षता में एक कमीशन का गठन किया। कांग्रेस ने इस आयोग का खूब विरोध किया मग़र 1930 में आयोग ने भारत आकर अपनी कार्यवाही शुरू करदी| मई 1930 को उनके साथ एक मीटिंग में डॉ अम्बेडकर ने हिन्दु धर्म में फ़ैली बेशुमार कुरीतियों / अवैज्ञानिक जातिप्रथा की ग़लत धारणाओं पर आधारित, बड़ी तीन जातियों द्वारा अपनी कौम के साथ हो रही अनगिनत ज्यादतियाँ का काला कच्चा चिट्ठा उसके सामने रखा और उनसे इस वर्णव्यवस्था को जड़ से समाप्त करने की अपील की| साइमन कमीशन को यह जानकर बड़ा दुःख और हैरानगी हुई के हिन्दुस्तान में समाज एक चैथाई तबके के साथ सदियों से ऐसा होता आ रहा है?

ऐसे ही चलते २ जब आज़ादी का अन्दोलन अपने पड़ाव में आगे ही आगे बढ़ता जा रहा था और कांग्रेस बड़े नेता महात्मा गाँधी ने दलितों के ऊपर हज़ारों वर्षों से चले आ रहेशोषण, व अत्याचार के प्रति अपनी अन्तिम राय दे दी की – “मैं तो एक कट्टर हिन्दू हूँ, और हिन्दु धर्म में सदियों से चली आ रही वर्णव्यवस्था सही है, और मैं इसको बदलने केपक्ष में बिलकुल भी नहीं हूँ”, तब डॉ आंबेडकर ने अंग्रेज़ हुकूमत के सामने अपनी एक और बड़ी माँग रख दी कि देश की आज़ादी के बाद हमें इन तथाकथित झूठे / पखण्डी सवर्णों के साथ रहने में कोई दिलचस्पी नहीं है और हमें भी अपनी आबादी के अनुपात से एक अलग देश बनाने की अनुमति दी जाये और इसके लिए देश के पूरे क्षेत्रफ़ल में से अपने हिस्से की ज़मीन भी दी जाये| डॉ अम्बेडकर की इस माँग को सुनकर कांग्रेस के सभी बड़े २ नेताओं में तो हड़कंम्प मच गया (ख़ास तौर पे जब साईमन आयोग के साथ हुई 3/4 बैठकों के बाद कांग्रेसी नेताओं को इस बात का एहसास होने लग गया कि आयोग तो डॉ.अम्बेडकर के ज़्यादातर मामलों से सहमत होता नज़र आ रहा है) और महात्मा गाँधी ने जलभुन के पुणे में आमरण अनशन रख दिया! जब अन्य कांग्रेस के नेताओं के समझाने के बावजूद भी डॉ अम्बेडकर अपनी अलग देश की मांग को छोड़ने के लिए तैयार नहीं हुए, तो इन नेताओं ने डॉ अम्बेडकर को मनाने के लिए एक षडयन्त्र रचा| इस षडयन्त्र के तहत महात्मा गाँधी की पत्नी, कस्तूरबा गाँधी कुच्छ अन्य महिलाओं के साथ डॉ अम्बेडकर से मिलने गई और उनसे अपनी अलग देश की मांग त्यागने की बिनती की, और हाथ जोड़कर प्रार्थना की - "मेरे पति की जान अब केवल आप ही बचा सकते हो| अगर आप अपनी यह मांग त्यागने के लिए सहमत हो जाते हैं तो कांग्रेस आपकी बहुत सी माँगों पर सकारात्मिक रूप में विचार कर सकती हैं|" डॉ.अम्बेडकर ने कस्तूरबा गाँधी को समझाते हुए स्पष्ट लफ़्ज़ों में कहा कियदि गाँधी “भारत की स्वतंत्रता के लिए मरण व्रत रखते, तो वह न्यायोचित हैं । परन्तु यह एक पीड़ादायक आश्चर्य तो यह है कि गाँधी ने केवल अछूतों के विरोध का रास्ता चुनाहै, जबकि भारतीय ईसाइयो, मुसलमानों और सिखों को मिले इस अधिकार के बारे में गाँधी ने कोई आपत्ति नहीं की। उन्होंने आगे कहा की महात्मा गाँधी कोई अमर व्यक्तिनहीं हैं। भारत में ऐसे अनेकों महात्मा आए और चले गए, लेकिन हमारे समाज में छुआछूत समाप्त नहीं हुई, हज़ारों वर्षों से अछूत, आज भी अछूत ही हैं । मग़र अब हम गाँधी केप्राण बचाने के लिए करोड़ों अछूतों के हित्तों की बलि नहीं दे सकते।" लेकिन फिर धीरे २ दोनों पक्षों के बीच बैठकों का सिलसिला बढ़ने लगा और डॉ अम्बेडकर ने कस्तूरबा गाँधी के आश्वासन पर और दलितों की सम्पूर्ण स्तिथि पर बड़ा गहन सोच विचार किया, और इस तरह 24 दिसम्बर, 1932 को पूना समझौते के अन्तर्गत दलितों के लिए उनकी आबादी के अनुपात में चुनाव में, शिक्षा के लिए कॉलजों में और सरकारी नौकरियों में और पद्दोन्तियों में सीटें आरक्षित रखने के मुद्दे पर सहमति बन पाई|

अगस्त 1947 में देश की आज़ादी के बाद उन्होंने देश का संविधान बनाने की ज़िम्मेदारी बाखूबी निभाई और यह संविधान 26 जनवरी, 1950 को लागू किया गया| तमाम उम्र डॉ अम्बेडकर कड़ा संघर्ष ही करते रहे, पूरे देश की ख़ातिर और अपने समाज की ख़ातिर, मग़र वक़्त २ पर कांग्रेस के नेताओं ने उनका तिरस्कार व निरादर ही किया! देश का संविधान लिखा, उनकी लिखी हुई एक पुस्तक (The Problem of the Rupee - Its Origin and Its Solution) के आधार पर रिज़र्व बैंक ऑफ़ इण्डिया की स्थापना 1 अप्रैल,1935 को की गई, न जाने और कितने उन्होंने समाज सुधार के कार्य किए, कानूनी तौर पर देश से छुआछूत मिटाई, सारी उम्र उन्होंने दलितों और समाज के दब्बे कुचले/बहिष्कृत और तिरस्कृत लोगों को न्याय दिलाने में लगा दी, देश के सभी नागरिकों को एक समान वोट देने का अधिकार दिलाया, अनुसूचित जातियों और अन्य पिछड़ी हुई जातियों के लिए चुनाव लड़ने के लिए अलग से निर्वाचिन सीटें दिलाईं, मगर उनके खुद के साथ पूरी उम्र ज्यादतियाँ ही होती रहीं | जब वे अपनी पढ़ाई पूरी करके देश लोटे और महाराजा गायकवाड़ के यहाँ अपने समझौते के मुताबिक नौकरी करने पहुँचे, तो वहाँ के लोगों ने उनकी नीची जाति के कारण उन्हें किराये पर कोई घर नहीं दिया| उनके ही दफ़्तर में काम करने वाला चपड़ासी जोकि पढ़ाई लिखाई में बिलकुल ही निमन स्तर का था, वह भी उनको पानी नहीं पिलाता था| जब अम्बेडकर पाठशाला में ही पढ़ते थे, क्लास में रखे हुए पानी के घड़े में से उनको पानी पीने की इजाजत नहीं थी| इतना पढ़ने लिखने के बाद भी जब उन्होंने ढेर सारी किताबें लिख चुके थे, अख़बार के एडिटर भी बन चुके थे, कॉलेज में प्रिंसिपल भी रह चुके थे, इसके बावजूद भी जुलाई 1945 में उनको पुरी में जगन्नाथ मन्दिर में जाने से वहाँ के पुजारियों ने रोक दिया था, क्योंकि अम्बेडकर दलित समाज से आए थे| केवल इतना ही नहीं, अपने आप को बड़े पढ़े लिखे कहलवाने वाले महात्मा गाँधी ने भी एक बार यह बात कबूल की कि - जब भी किसी मीटिंग में उनको डॉ अम्बेडकर के साथ हाथ मिलाना पड़ता था, उस दिन घर जाने बाद जबतक वह साबुन से अच्छी तरह हाथ नहीं धो लेते थे, वह खाने पीने की किसी भी वास्तु को छूते तक नहीं थे| बाद में ऐसा ही रवैया कुच्छ और कोंग्रेसी नेताओं ने स्वीकार किया | 14 अक्टूबर, 1956 को डॉ. आंबेडकर ने अपनी पत्नी सविताअम्बेडकर, अपने निजी सचिव - नानक चन्द रत्तु और दो लाख से भी ज्यादा अनुयाईयों के साथ नागपुर में हिन्दु धर्म त्यागने की घोषणा कर दी और बुद्ध धर्म (जोकि मानवताकी बराबरी, ज्ञान, सच्चाई के रस्ते और करुणा / दया के सिद्धांतों पर आधारित है), को अपना लिया | आज़ादी के बाद भी वह देश के पहले कानून मंत्री बन गए थे, इतनी ज़्यादा विभिन्नताओं से भरे देश के लिए संविधान भी लिखा, मग़र इतना कुछ करने के बाद भी उनको देश का सर्वोच्च पुरस्कार भारत रत्न से नहीं नवाज़ा गया था, आख़िर यह तो तब सम्भव हो पाया जब 1990 में वी पी सिंह देश के प्रधान मंत्री बने| डॉ. अम्बेडकर का परिनिर्वाण तो दिल्ली में 6 दिसम्बर 1956 को हुआ था,लेकिन उनके अन्तिम संस्कार के लिए नेहरू ने दिल्ली में कोई जगह नहीं दी| इतना ही नहीं, नेहरू जानता था कि पूरे देश में डॉ अम्बेडकर को जानने और सम्मान करने वालों कीसँख्या करोड़ों में है, और अगर इनका अन्तिम संस्कार दिल्ली में हो गया तो प्रत्येक वर्ष अम्बेडकर के जन्म दिवस और परिनिर्वाण दिवस पर यहाँ तो मेले लगते रहेंगे | इसलिहाज़ से मरा हुआ अम्बेडकर जिन्दा अम्बेडकर से भी ज़्यादा ख़तरनाक सिद्ध हो सकता है | यही सब ध्यान में रखते हुए नेहरू ने उन्हें (उनके घर वालों की इच्छा के ख़िलाफ़) दिल्ली से दूर उनके शव को एक विशेष विमान से मुम्बई भेज दिया | तो इस तरह देश के संविधान निर्माता और एक बड़े तबके के रहनुमा के साथ परिनिर्वाण के बाद भी देश कीराजधानी में जगह नहीं मिली | इतना ही नहीं, उनके परलोक सुधारने के बाद भी उनके साथ अत्याचार होने बंद नहीं हुए हैं, बहुत बार ऐसा हो चुका है कि देश में विभिन्न स्थानों पर स्थापित की गई उनकी प्रतिमाएँ अक्सर या तो तोड़ दी जाती हैं या फिर उनके चेहरे पर कालिख़ पोत दी जाती है| कुच्छ भी हो, दलित समाज के करोड़ों लोगों के दिलों में डॉ अम्बेडकर का मान सम्मान और दर्जा किसी देवता से कम नहीं है और वह उन्हें 14वीं सदी के महान गुरू, क्रन्तिकारी समाज सुधारक, गुरू रविदास जी का ही अवतार मानते है|

इस महात्मा गाँधी का दोगलापन देखिये कि जब 1893 में डरबन, साऊथ अफ्रीका में एक गाड़ी के पहली श्रेणी के डिब्बे में सफ़र करते समय TTE ने उसे गाड़ी से इसलिए उतारफैंका था कि उसका काला रंग है और काले रंग वाले लोगों को ऐसे सहूलतों वाले रेल के डिब्बे में सफ़र करने की इजाजत नहीं है, तब उसने सारी दुनियाँ को चीख २ कर बताया थाके मेरे साथ रंग / नसल के आधार पर भेदभाव करते हुए नाइन्साफ़ी हुई है, उसी महात्मा गाँधी को अपने ही देश हज़ारों वर्षों से शूद्रों के साथ जातिपाति के आधार पर हो रहेभेदभाव, शोषण और अत्याचार कभी नज़र नहीं आये और जब डॉ आंबेडकर ने इसके ख़िलाफ़ बुलन्द आवाज़ में विरोध किया तो वह हमेशा यही कहता रहा कि हिन्दुओं में यहवर्णव्यवस्था सदियों पुराणी है और मैं इस से खुश / संतुष्ट हूँ | 

सावित्रीबाई फूले : डॉ अम्बेडकर की तरह ही एक महिला विद्वान, सावित्रीबाई फूले (पत्नी श्री ज्योतिबाई फूले) एक महान दलित विद्वान, समाज सुधारक और देश की पहली महिला शिक्षक, समाज सेविका, कवि और वंचितों की आवाज उठाने वाली सावित्रीबाई फूले का जन्‍म 3 जनवरी, 1831 में एक दलित परिवार में हुआ था| 1840 में 9 साल की उम्र में उनकी शादी 13 साल के ज्‍योतिराव फूले से हुई| सावित्रीबाई फूले ने अपने पति क्रांतिकारी नेता ज्योतिराव फूले के साथ मिलकर लड़कियों के लिए 18 स्कूल खोले| सावित्रीबाई फूले देश की पहली महिला अध्यापक-नारी मुक्ति अन्दोलन की पहली नेता थीं| उन्‍होंने 28 जनवरी,1853 को गर्भवती बलात्‍कार पीडि़तों के लिए बाल हत्‍या प्रतिबंधक गृह की स्‍थापना की| सावित्रीबाई ने उन्नीसवीं सदी में छुआ-छूत, सतिप्रथा, बाल-विवाह और विधवा विवाह निषेध जैसी कुरीतियां के विरुद्ध बुलन्द आवाज़ उठाई और अपने पति के साथ मिलकर उसपर काम किया| सावित्रीबाई ने आत्महत्या करने जा रही एक विधवा ब्राह्मण महिला काशीबाई की अपने घर में डिलवरी करवाई और उसके बच्चे यशंवत को अपने दत्तक पुत्र के रूप में गोद लिया | दत्तक पुत्र यशवंत राव को पाल-पोसकर इन्होंने बड़ा किया और उसे डॉक्टर बनाया| महात्मा ज्योतिबा फूले की मृत्यु सन 1890 में हुई. तब सावित्रीबाई ने उनके अधूरे कार्यों को पूरा करने का संकल्प लिया | सावित्रीबाई की मृत्यु 10 मार्च,1897 को प्लेग के मरीजों की देखभाल करने के दौरान ही हो गयी थी| उनका पूरा जीवन समाज में वंचित तबके, ख़ासकर महिलाओं और दलितों के अधिकारों के लिए संघर्ष में ही बीता| उनकी एक बहुत ही प्रसिद्ध कविता है जिसमें वह सबको पढ़ने लिखने की प्रेरणा देकर जाति व्यवस्था तोड़ने और ब्राह्मण ग्रंथों को फैंकने की बात करती हैं, क्योंकि यह पुस्तक हमेशा से ही दलितों को नीचा दिखाते आये हैं और इनकी प्रगति और विकास के मार्ग में बहुत बड़ी वाधा बनते आए हैं ! बड़े ताजुब की बात है कि उनके इतने बड़े संघर्ष और बलिदान को भूल कर जब अध्यापक दिवस मनाने की घोषणा की गई तब सरकार में किसी को यह ध्यान क्यों नहीं आया की यह तो सावित्री बाई के जन्म दिवस - अर्थात 3 जनवरी को ही मनाया जाना चाहिए था, ना कि 5 सितंबर को|

उस वक़्त जब औरतों को आदमियों की पैर की जूती बराबर ही समझा जाता था, सावित्री जी के प्रसिद्ध विचार पूरे समाज को एक नई दिशा और चेतना देने वाले इस प्रकार थे - जागो, उठो, पढ़ो-लिखो, बनो आत्मनिर्भर, मेहनती बनो, काम करो, ज्ञान और धन इकट्ठा करो, ज्ञान के बिना सब कुछ खो जाता है, ज्ञान के बिना आदमी पशु समान ही रह जाते हैं| उन्होंने हमेशा इस बात पर ज़ोर दिया कि दलित और शोषित समाज के दुखों का अंत केवल पढ़लिख कर शिक्षित बनने, धन कमाने और आर्थिक रूप से आत्मनिर्भर होने से ही होगा| उस वक़्त के हिसाब से एक दलित परिवार से और बिलकुल ही निम्न सत्तर से उठकर इस महान महिला के समाज सुधार को ध्यान में रखते हुए सभी दब्बे कुचले परिवारों के शोषित लोग सावित्री बाई जी के जन्म दिवस (तीन जनवरी) को ही शिक्षक दिवस के रूप में मानते और मनाते हैं, नाकि 5 सितम्बर को, क्योंकि श्री राधाकृष्णन का पूरे समाज के लिए योगदान सावित्रीबाई के योगदान और बलिदान के सामने बिलकुल फ़ीका पड़ता ही नज़र आता है| 

मेजर ध्यान चाँद : जब दलितों के साथ निरन्तर हो रहे अत्याचार, शोषण और तिरस्कार की बात चलती है तो हम हॉकी के महान जादूगर मेजर ध्यान चन्द को कैसे भूल सकते हैं| ध्यान चन्द का जन्म 29 अगस्त, 1905 को इलाहाबाद में हुआ था | वह भारतीय फ़ौज में नौकरी करते थे और हॉकी के बहुत ही बढ़िया खिलाड़ी थे | उनको तीन बार ओलिंपिक खेलों में भाग लेने का अवसर मिला – 1928, 1932 और 1936 में| अपने पूरे ख़ेल जीवन के दौरान उन्होंने 400 से ज़्यादा गोल किये और हमेशा अपनी टीम की जीत दिलाई | ख़ेल के दौरान ध्यान चन्द इतनी चुस्ती फुर्ती, स्फ़ूर्ति और कुशलता के साथ खेलते थे और उनके इतने ज्यादा गोल करने के क्षमता की वजह से ऐसा कहा जाने लग गया कि - हॉकी एक खेल नहीं है, बल्कि एक जादू है और ध्यान चन्द इसके जादूगर| 1936 ओलिंपिक खेलों में भारत का फाइनल मैच जर्मनी के साथ होना था और यह मैच देखने के लिए उस वक़्त के जर्मनी के चांसलर अडोल्फ़ हिटलर भी स्टेडियम में मौजूद थे और वह चाहते थे कि किसी भी तरह जर्मनी यह फाइनल मैच जीत जाए| मगर ध्यान चन्द के होते हुए यह कहाँ सम्भव था, और अन्तत: भारत ने जर्मनी को 8-1 के मार्जिन से हरा दिया| इस मैच में अकेले ध्यान चन्द ने 6 गोल दागे और जर्मनी का चाँसलर हिटलर ध्यान चन्द की खेल कुशलता और शैली से इतना प्रभावित हुआ कि उसने ध्यान चन्द को अपने घर खाने पर बुलाया | खाने के दौरान हिटलर ने ध्यान चन्द से पूछा कि वह हॉकी खेलने के इलावा क्या करते है? ध्यान चन्द ने जवाब दिया कि यह आर्मी में लान्स नायक हैं | फिर हिटलर ने ध्यान चन्द को इंडिया छोड़कर जर्मनी में आकर बसने का निमंत्रण दिया और यह भी लालच दिया कि वह ध्यान चन्द को जर्मनी की सेना में जनरल बना देगा, एक बहुत बड़ी कोठी भी उसे दी जाएगी, बस वह आकर वहीं बस जाये और जर्मनी की टीम को हॉकी खेलना सिखाये| मगर ध्यान चन्द ने हिटलर का प्रस्ताव यह कहकर ठुकरा दिया कि वह अपने देश को बहुत प्यार करता है और अपना देश छोड़ने के बारे में सोच भी नहीं सकता | 

मगर अपने देश में अन्य दलित लोगों की तरह, ध्यान चन्द के साथ भी जाति आधारित भेदभाव अकसर होते रहते थे| जैसे कि खिलाडियों को जीतने के बाद जो इनाम में दी जाने वाली धन राशि को घोषणा होती है, वह भी उस खिलाड़ी की जाति जानकर ही होती है | सारी उम्र ध्यान चन्द का हॉकी के प्रति समर्पण, उसकी अपने देश को जीत दिलाने की लगन व कार्यकुशलता को देखते हुए उसको बहुत पहले खेलों में भारत रतन मिल जाना चाहिए था| मगर ऐसा हरगिज़ नहीं हो सका, क्योंकि किस २ खिलाडी को क्या २ इनाम और मान सम्मान देना है, इसका निर्णय तो सत्ता में शिखर पर बैठे बड़े अधिकारी और नेतागण ही करते हैं और यह निर्णय लेते समय वह खिलाड़ी की जाति देखना कभी नहीं भूलते| अंत में जब 2014 में यह निर्णय लिया गया कि भारत रतन के लिए खेलों को भी शामिल किया जाना चाहिए, उस वक़्त भी ध्यान चन्द के साथ चार पाँच दशकों से होते रहे अन्याय को समाप्त करने की बजाये, एक बड़े दलित उम्मीदवार को छोड़कर एक ब्राह्मण (सचिन तेंदुलकर) को यह सम्मान दे दिया गया| और इस तरह ध्यान चन्द के साथ हो रहा तिरस्कार का सिलसिला उसके मरनोप्रांत अब भी जारी है| अपने ही गाँव झाँसी में 3 दिसंबर, 1979 को उनकी मृत्यु हो गई|

मोहम्मद अली प्रकरण : ऐसा नहीं है ऐसे जातिपाति आधारित भेदभाव, तिरस्कार और उनकी प्रतिभा की अवेहलना हमारे देश में ही होती है| विश्वप्रसिद्ध अमरीकी बॉक्सिंग चैंपियन मोहम्मद अली (17 जनवरी, 1942 से 3 जून, 2016) को भी अपने पूरे जीवनकाल में बहुत बार रंगभेद का सामना करना पड़ा था | मोहम्मद अली, जोकि जन्म से एक ईसाई था और उसका नाम कैसियस मार्केलॉस क्ले था, को स्कूल के दिनों में अपने काले रंग की वजह से अनेकों बार पीड़ा, भेदभाव, तिरस्कार और भद्दी २ टिप्णियाँ सुननी पड़ती थी| फिर एक दिन ऐसा आया कि उसने अपना धर्म परिवर्तन करके इस्लाम धर्म अपना लिया और कैसियस क्ले से मोहम्मद अली बन गया| 25 फरवरी, 1964 को अपने से पहले बड़े मुक्केबाज़ चार्ल्स सोनी को, फ्लोरिडा में हराकर मोहम्मद अली बॉक्सिंग चैंपियन बन गया| विश्व चैंपियन बनने के बाद उनके पास पैसा, छोहरत, बड़ी कोठी इत्यादि तो सब आ गए थे, मगर उसके काले रंग की वजह होने वाले निरंतर तिरस्कार से उनका पीछा नहीं छूटा| एक बार की बात है कि मोहमद अली की शादी की सालगिरह का अवसर था और उसके बच्चों की जिद्द थी उनके पिता बच्चों को शहर के सबसे बड़े और महंगे होटल में खाना खिलाएँ| मोहम्मद अली ने बच्चों को बहुत समझाया कि जो खाने की उनकी इच्छा है, वह बता दें और इसका प्रबन्ध वह घर में ही कर देंगे| मगर बच्चे अभी इतने बड़े नहीं हुए थे कि वह समझ सकें कि उनके पिता उनको बड़े होटल में क्यों नहीं लेजा रहे| खैर, बच्चों की जिद्द के आगे नतमस्तक होकर मोहम्मद अली और उसकी पत्नी बच्चों को शहर के सबसे महंगे होटल में ले गए| वहाँ पहुँचकर एक ख़ाली मेज देखकर उसके इर्दगिर्द बैठ गए और मोहम्मद अली ने एक बैरे को खाने का मीनू लाने के लिए कहा| वह बैरा तो क्या, वहाँ पर उपस्थित सभी लोग मोहम्मद अली और उसके परिवार को ऐसे देखने लग गए जैसे कि वह कोई चोर हों| जब मोहम्मद अली ने अपने मेज के पास से गुजरते हुए एक बैरे को रोका और पूछा कि आप लोग हमारे लिए खाने का मीनू कार्ड क्यों नहीं दिखा रहे, तब उस बैरे ने बड़े नफ़रत भरे अन्दाज़ से उत्तर दिया, "हमारे होटल में काले रंग के लोग और कुत्तों को अन्दर आने की इजाजत नहीं है, मुझे तो ताजुब हो रहा है कि आप लोग जहाँ आ कैसे गए?" इतना सुनते ही मोहम्मद अली का भी ख़ून खौल गया, आख़िर वह भी बॉक्सिंग का विश्व चैंपियन था, दोनों तरफ़ ख़ूब हाथापाई-मारपीट शुरू हो गई और मोहम्मद अली ने उस होटल के चार पाँच लोगों की अच्छी धुनाई कर दी| होटल के मैनेजर ने झटसे फ़ोन करके पुलिस बुलवा ली और मोहम्मद अली पर होटल में जबरदस्ती घुसने और मारपीट करने और फर्नीचर की तोड़फोड़ का आरोप लगा दिया| पुलिस उस वक़्त तो मोहम्मद अली को पकड़कर ले गई, मग़र उसके ऊपर कोई कानूनी कार्यवाही नहीं कर सकी| और ऐसे इस घटना के बाद मोहमद अली के बच्चों को भी जिन्दगी भर का एक सबक मिल गया कि माँ बाप की बात मान लेने में ही भलाई होती है| 

दशरथ माँझी प्रकरण : दशरथ माँझी नाम की इस महान विभूति को कौन भूल सकता है, जिन्हें आजकल ”माउन्टेन मैन” के नाम से भी जाना जाता है| वह बिहार में गया जिले के करीब गहलौर गांव में रहने वाला एक गरीब खेत मजदूर था, और उन्होनें केवल एक हथौड़ा और छेनी लेकर अकेले अपनी हिम्मत के सहारे ही 360 फुट लम्बी, 30 फुट चौड़ी और 25 फुट ऊँचे पहाड़ को काटकर एक सड़क बना डाली। 22 वर्षों के परीश्रम के बाद, दशरथ माँझी की बनाई सड़क ने अतरी और वजीरगंज ब्लाक की दूरी को 55 किलोमीटर से घटाकर मात्र 15 किलोमीटर ही कर दिया।

गहलौर गाँव में 1934 में जन्मे इस सज्जण ने ये साबित किया है कि अगर इन्सान ठान ले तो कोई भी काम असंभव नहीं है। एक इन्सान जिसके पास पैसा नहीं, कोई ताकत नहीं, मगर उसने इतना बड़ा पहाड़ खोदकर उस में से सड़क बनानी, उनकी जिन्दगी से हमें एक सीख मिलती है कि अगर इन्सान दृढ़ निश्चय करले तो हम किसी भी कठिनाई को पार कर सकते है, बस उस काम को करने की दिल में जिद्द और जनून होना चाहिए। उनकी 22 वर्षो की कठिन मेहनत से उन्होंने अकेले ही अपने गाँव को शहर से जोड़ने वाली एक ऐसी सड़क बनाई जिसका उपयोग आज आसपास के सभी गाँवों वाले करते है।

दशरथ माँझी की शादी कम उम्र में ही फाल्गुनी देवी से हो गई थी। एक दिन जब दशरथ माँझी खेत में काम कर रहा था और उसकी पत्नी, नित प्रतिदिन की भाँति अपने पति के लिए खाना ले जाते समय पहाड़ से फ़िसलकर गिर गई और गम्भीर रूप में घायल हो गई, और उस वक़्त वह गर्बवती भी थी| दशरथ माँझी उसे उठाकर घर ले आया मगर उसे इलाज़ के लिए शहर ले जाना था, जिसके लिए उसके पास कोई साधन नहीं था| गाँव के अमीर ठाकुर लोग जिनके पास गाड़ियाँ थी, दशरथ उन सब के पास वारी २ गया और मदद के लिए बिनती की कि उसकी पत्नी को गाड़ी में डालकर अस्पताल पहुँचा दें, मगर पूरे गाँव में किसी ने उसकी मदद नहीं की| आख़िर में उसने पत्नी को बैलगाड़ी में लेटाया और शहर की और चल दिया | देर शाम को जब वह अस्पताल पहुँचा, तबतक बहुत देर हो चुकी थी और डॉक्टरों ने उसकी जाँच पड़ताल करके बताया कि उसने पत्नी को अस्पताल लाने में बहुत देर करदी, इसकी वजह से खून ज़्यादा बह गया और फाल्गुनी का निधन हो गया। अगर फाल्गुनी देवी को समय रहते अस्पताल ले जाया गया होता, तो शायद वो बच जाती | यह बात उसके अन्दर तक इतनी बुरी तरह चुभ गई कि दशरथ माँझी ने संकल्प कर लिया कि, भले ही सरकार या और कोई संस्था उसकी सहायता करें या ना, वह अकेले ही पहाड़ के बीचों बीच से रास्ता निकालेगे, ताकि देर से डाक्टरी सहायता ना मिलने की वजह से गाँव के किसी और व्यक्ति को मौत न देखनी पड़े| तो ऐसे संकल्प में बँधे हुए उसने गहलौर की पहाड़ियों में से रास्ता बनाना शुरू किया। इन्होंने बताया, “जब मैंने पहाड़ी तोड़ना शुरू किया तो लोगों ने मुझे पागल कहा - कि ऐसे कभी हुआ है कि एक अकेला आदमी इतनी ऊँची पहाड़ी को काटकर, वह भी बिना मशीनों और विस्फोटक पदार्थों के, सड़क बना दे, लेकिन उसने अपने पक्के निश्चय और भी मजबूत इरादे के चलते हुए यह सब सम्भव कर दिखाया |

इतने बड़ी परियोजना को पूरा करने के लिए उसे 22 वर्ष (1960-1982) लगे और अत्रि और वज़ीरगंज सेक्टर्स की दूरी 55 किमी से घटकर 15 किमी तक रह गई ।माँझी का यह पहाड़ से भी ज्यादा मजबूत प्रयास एक बहुत बड़ा सराहनीय कार्य है। उसके इतने बड़े कार्य के लिए अख़बारों / मैगज़ीनों / टीवी इत्यादि में चर्चा तो हुई ,मग़र इनाम के नाम पर एक मेहनतकश इन्सान को मिला कुच्छ भी नहीं | बिहार की सरकार ने उसे पाँच लाख रूपये देने की घोषणा भी की, मग़र यह धनराशि उसे कभीवितरण नहीं की गई | बिहार की राज्य सरकार ने उनकी इस उपलब्धि के लिए सामाजिक सेवा के क्षेत्र में 2006 में पद्मश्री हेतु उनके नाम का प्रस्ताव भी भेजा, मग़र उसेयह भी मिला कभी नहीं | कारण - दशरथ माँझी भी एक दलित परिवार से सम्बन्ध रखने वाला इन्सान था और यह तो हमारे समाज की एक बहुत बड़ी कुरीति और कुचालही कहेंगे, कि दलित लोग जितना मर्जी बड़ा असम्भव कार्य करके दिखा दें, समाज को उसे जितना मर्जी फ़ायदा पहुँचा हो , मगर तथाकथित बड़े लोग कभी सम्मानजनकधनराशि , इनाम और पद प्रदिष्टा देने में हमेशा से ही अवेहलना करते ही आये हैं | दशरथ माँझी के साथ भी यही कुच्छ हुआ | मशहूर अभिनेता आमिर खान ने अपने एकटीवी सीरियल "सत्यमेव जयते" में उसके इस महान कार्य पर एक एपिसोड भी बनाया, उसे दो ढाई करोड़ की कमाई भी की मग़र, उसके परिवार को घर बनाने के लिए वादाकी हुई धनराशि 15 लाख रूपये कभी नहीं मिले | दशरथ माँझी की 17 अगस्त, 2007 को दिल्ली में मृत्यु हो गई थी |

फ्रांस के एक बहुत बड़े विद्वान, राजनैतिक विश्लेषक और दार्शनिक - जैकिज़ रूसो ने बहुत वर्ष पहले कहा था कि अगर आप सच्चे दिल से चाहते हो कि आपका देश खूबउन्नति, विकास करे, प्रगति की बुलंदियाँ छुए और इस पथ पर हमेशा आगे बढ़ता ही रहे, तो इसके लिए यह अत्यंत ही आवश्यक है कि समाज में रहने वाले सभी धर्मों औरजातियों के लोगों को पढ़ाई लिखाई के बराबर अवसर दिए जाएँ और किसी भी क्षेत्र में अच्छा कार्य करने वालों का समय २ पर यथासम्भव मान-सम्मान व सराहना भी होनी चाहिए , ताकि समाज के अन्य लोगों के लिए यह एक प्रेरणा स्रोत बनते रहें | मगर हमारे देश का एक बहुत बड़ा दुर्भाग्य ही कहेंगे कि यहाँ पर जातिपाति आधारित अनेकोंमतभेद, शोषण और तिरस्कार सदियों से होते आए हैं , यही कारण है कि हमारा देश अन्य देशों के मुकाबले वैज्ञानिक उन्नति, विकास और प्रगति की श्रेणी मेंविकासशील देशों से बहुत पिछड़ा हुआ है, हालाँकि आबादी की दृष्टि से हम पूरी दुनियाँ में दूसरे नम्बर पर हैं | जितनी जल्दी से जल्दी यह सिलसिला बदला जाएगा, पूरेदेश और समाज के लिए उतना ही बेहतर और लाभकारी होगा|

Citizen's reporter
आर डी भारद्वाज "नूरपुरी "

Family Connect Day Celebrated at NKBPS, Dwarka

Truly said by somebody that “Families are like branches on a tree, we all grow in different directions but our roots remain as one.”

N.K. Bagrodia Public School, Junior Wing kept this in perspective and celebrated “Family Connect Day” with great vigor and enthusiasm on 14th July, 2017 with an aim to foster camaraderie and unity among family members. Various activities were conducted to make this day a memorable one for the tiny tots. Grandparents and Parents were invited to give the real feel to the children. It was heartwarming to see the grandparents narrating stories and parents also discussing real life situations with the children to give them good value education.

Students of Pre-Primary took the centre stage as they were dressed in the costumes of grandparents, Parents and siblings and had a role play. The importance was highlighted through a puppet show. One of the mother narrated a beautiful story of a Greedy Boy by using hand puppets which really captured the attention of the children. Moral of the story was also discussed with the children.

The event in itself showed the children the importance of Grand Parents and Parents in their life and left everyone with the thought that every member in the family is important and they must respect all of them.

SPECIAL PUJAS AND ALANKARAMS ON THE OCCASION OF AADI VELLI


Sunday, July 16, 2017

JOSH TALKS SCHOOL OUTREACH PROGRAMME


Ideas change the world. The power of a new idea is the engine that transforms the way we live and think and thus re-strengthening this belief, a stimulating workshop was conducted for the students of Grade IX-XII of J M International School on 14th April 2017 facilitated by Mr. Shobhit Banga, co founder and CEO, JOSH INDIA who shared thought-provoking stories delivered by super achievers from technology, science, conservation, politics, sports, and the arts at JOSH TALKS 2016, a platform that showcased India’s most inspiring stories. The main topic of discussion of the workshop was how to innovate in daily life so as to find one's purpose in life despite challenges. The students were also asked about one alarming problem in the world that they would like to resolve if given a chance. All the students enthusiastically participated in the discourse and stood by the slogan “HUM YAHAN HAIN JOSH YAHAN HAIN” so that the young brigade can inspire more people to take the leap of faith.

Thanks for your VISITs

 
How to Configure Numbered Page Navigation After installing, you might want to change these default settings: